• August 5, 2021

Types of computer memory

मेमोरी ( Types of computer memory )

यह कम्प्यूटर का आंतरिक भंडारण (Internal Storgage) क्षेत्र है।

प्राथमिक(Main Memory) Types of computer memory

Types of computer memory मुख्य मेमोरी अस्थाई (Volatile) तथा सीमित क्षमता वाले होते है। इसके प्रकार निम्नलिखित है-

रैम मुख्यतः दो प्रकार के होते है

  • डेटा प्रतिनिधित्व :- मेमोरी बहुत सारे सेल में बंटे होते है जिन्हें लोकेशन कहते है। हर लोकेशन का एक अलग लेबल होता है। जिसे एड्रेस कहते है सेल का उपयोग डेटा और निर्देश के संग्रह के लिए किया जाता है। प्रत्येक लोकेशन में निश्चित बिट स्टोर की जा सकती है जिसे वर्ड लेंथ कहते है। वाइट डेटा की एक इकाई है जो कि EBCDIC (External Binary Coded Decimal Interchange Code) में आठ बिट्स तथा ASCII ( American Standard Code for Information Interchange) में 7 बीट्स समूह है।
  • रॉम (ROM) :- रीड ओनली मेमोरी (Read Only Memory) यह एक स्थाई मेमोरी होती है जिसका उपयोग कम्प्यूटर में डेटा को स्थायी रूप में रखने में किया जाता है। रॉम में उपस्थित यह स्थायी प्रोग्राम बायोस (BIOS -Basic Input Output System) के नाम से जाना जाता है।
  • प्रोम (PROM- Programmable Read Only Memory) :- एक बार प्रोग्राम निर्देश को बर्न करने के उसमें परिवर्तन नहीं हो सकता है।
  • ई-प्रोम (E- PROM- Erasable Programmable Read Only memory):- इसे पराबैंगनी ई-प्राम भी कहते है।
  • (E-E-PROM – Electrically Erasable Programmable Read Only):- यह भी ईप्रॉम की तरह स्थायी मेमोरी है।
  • (Cache Memory):- यह केन्द्रीय प्रोसेसिंग इकाई (CPU) तथा मुख्य मेमोरी के बीच का भाग है जिसका उपयोग बारबार उपयोग में आने वाले डेटा और निर्देशों को संग्रहित करने में किया जाता है।
  • रैम (RAM – Random Access Memory):- कम्प्यूटर में सबसे ज्यादा उपयोग होने वाला यह मेमोरी है। यह अस्थायी मेमोरी है। अर्थात् अगर विद्युत सप्लाई बंद हो जाती है तो इसमें संग्रहित डेटा (सूचना) भी खत्म हो जाती है। रैम 64 MB, 218 MB, 256 MB,512 MB,1 GB. 2 GB, 4 GB, 8 GB, 16 GB, 32 GB आदि क्षमता में उपलब्ध है।

DRAM SRAM

(a) डायनैमिक रैम (Dynamic RAM) : इसके डेटा को बार – बार रिफ्रेश (Refresh) करना होता है।

(b) स्टैटिक रैम (Static RAM) : इसे डाटा को रिफ्रेश करने की आवश्यकता नहीं होती है।


द्वितीयक मेमोरी ( Secondary Memory) Types of computer memory :-

द्वितीयक मेमोरी को बड़ी मात्रा में स्थायी (Non Volatile) डेटा मेमोरी के रूप में इस्तेमाल करते है।

  • हार्ड डिस्क (Hard Disk):- उच्च संग्रहण क्षमता, विश्वसनीयता तथा तीव्र गति प्रदान करता है।
  • सीडी रॉम (CD ROM-Compact Disk Read Only Memory): सी डी रॉम को ऑप्टिकल डिस्क भी कहा जाता है। सीडी में अंकित डेटा (Recording) मिट नहीं सकती है। साधारणतः सीडी रॉम की संग्रह क्षमता 640 एमबी होती है। इसे WORM (Write Once Read Many) डिस्क भी कहते है।
  • सीडी-आरडब्ल्यू :- इसमें संग्रहित डेटा को मिटाया या परिवर्तित किया जा सकता है।
  • मैग्नेटिक टेप (Magnetic Tape):- मैग्नेटिक टेप 2400 से 3600 फीट लम्बा तथा पॉलिस्टर का बना होता है। इसे रील में लपेटा जाता है।
  • फ्लॉपी डिस्क : ये मुख्यतः तीन आकारों 8 इंच 5.25 इच और 3.5 इंच में आता है। यह एक ब्राह्य (External) मेमोरी है।
  • डीवीडी (DVD) :- डीवीडी Digital Versatile Disc ये Digital video disc का संक्षिप्त नाम है। इसमे न्यूनतम 4.7 जीबी डेटा, एक पूर्ण लम्बाई की फिल्म संग्रहित किया जा सकता है।
  • पेन ड्राइव (Pen Drive):- यूएसबी (USB – Universal serial Bus) संगत प्रणालियों के बीच फाइलों के स्थानांतरण तथा संग्रहण करने के लिए उपयोग होता है। इसे फ्लैश ड्राइव भी कहते है।
  • फ्लेश मेमोरी :- इसके मिटाया तथा फ़िर से प्रोग्राम किया जा सकता है। इसका उपयोग सेलुलर फोन, डिजिटल कैमरा, डिजिटल सेट टॉप बॉक्स इत्यादि में होता है ।

Some Important links

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
wpDiscuz