राजस्थान के भौतिक प्रदेश

अध्याय- राजस्थान की स्थिति, विस्तार, आकृति व भौतिक स्वरूप


राजस्थान के भौतिक प्रदेश के प्रश्नों की प्रश्नोत्तरी हल करने के लिए नीचे दिए गए बटन (Start Quiz) पर क्लिक करें

  • प्रत्येक प्रश्न 1 अंक का है
  •  सभी प्रश्न करने अनिवार्य है
  •  कोई समय सीमा नहीं है
  •  प्रश्नावली में कोई त्रुटि होने पर उसकी सूचना  हमें कमेंट बॉक्स मैं लिख कर बता सकते हैं
अंतरराष्ट्रीय सीमा के साथ राज्य के किस जिले की सीमा सर्वाधिक लंबी है?
राज्य का कौन सा जिला पंजाब एवं हरियाणा दोनों को स्पर्श करता है?
माही नदी के किनारे स्थित प्रतापगढ़ का भू-भाग कहलाता है?
रेगिस्तान का प्रवेश द्वार कहा जाता है?
दरगा की पहाड़ियां व हर्षनाथ की पहाड़ियां क्रमशः स्थित है?
वर्तमान में अरावली कैसा पर्वत है?
वर्ष 2005 में घोषित राजस्थान का सातवां नवीनतम संभाग मुख्यालय कौन सा है?
निम्न में से कौन सिंधु बेसिन व गंगा बेसिन के मध्य जल विभाजक है?
राजस्थान की उत्तर से दक्षिण लंबाई एवं पूर्व से पश्चिम चौड़ाई क्रमशः है?
निम्न में से कौन सा जिला मध्य प्रदेश की सीमा को छूता है?
23 अगस्त 2008 को किस राज्य का पांचवा नगर निगम बनाया गया?
निम्न में से कौन सा जिला जोधपुर संभाग में सम्मिलित नहीं है?
राजस्थान की आकृति है?
मेरवाड़ा पहाड़ियां स्थित है?
उत्तरी पश्चिमी शुष्क प्रदेश में वर्षा न होने का प्रमुख कारण क्या है?
कौनसा जिला मध्य प्रदेश की सीमा को दो बार छूता है?
निम्न में से सही कथन है-
मुकुंदवाड़ा की पहाड़ियां स्थित है?
भाकर कहां स्थित है?
छप्पन की पहाड़ियां किन चट्टानों से संबंधित है?
नाली क्या है?
देशहरो है?
राजस्थान की कौनसी स्थलाकृति लावा निर्मित है?
हम्मादा क्या है?
निम्न में से कौन ग्रेनाइट पर्वत के नाम से विख्यात है
Complete the form below to see results
राजस्थान के भौतिक प्रदेश
You got {{userScore}} out of {{maxScore}} correct
{{title}}
{{image}}
{{content}}

  • अक्षांशीय विस्तारराजस्थान 23°3′ उत्तरी अक्षांश से 30°12′ उत्तरी अक्षांश तक (बोरकुंड गांव से कोणा गाँव तक) 826 किमी में विस्तृत है।

राजस्थान के भौतिक प्रदेश की स्थिति, विस्तार एवं उच्चावच

  • देशांतरीय विस्तार- राजस्थान. 69°30 पूर्वी देशांतर से.कटरा., से 78°17′ पूर्वी देशान्तर तक (कटरा गाँव से सिलॉना गाँव तक) 869 किमी में फैला है।
  • धरातल पर दिशा एवं दूरी के अनुसार ज्ञात स्थिति को सापेक्ष स्थिति कहते है, जिसके अनुसार राजस्थान में 7 संभाग एवं 33 जिला है, जो पाकिस्तान एवं भारत के पाँच पड़ोसी राज्यों से संबंधित है।
  • अंतर्राष्ट्रीय सीमा : 1070 किमी लम्बी है जो पाकिस्तान से मिलती है इसे रेडक्लिफ रेखा के नाम से जाना जाता है। इस सीमा से राजस्थान के चार जिले-श्रीगंगानगर, बीकानेर, जैसलमेर व बाड़मेर जडे है। इनमें सर्वाधिक सीमा जैसलमेर की एवं सबसे कम सीमा बीकानेर की है।

देश के राज्य व पाकिस्तान के जिले जो राजस्थान की सीमा बनाते हैं

  1. पंजाब के फिरोजपुर व मुक्तसर
  2. हरियाणा के रेवाड़ी, गुडगाँव, महेन्द्रगढ़, भिवानी, हिसार, सिरसा, फतेहाबाद, मेवात। 
  3. उत्तर प्रदेश के आगरा, मथुरा।
  4. मध्यप्रदेश के झाबुआ, रतलाम, मंदसौर, श्योपुर, नीमच, राजगढ़, गुना, शिवपुरी, शाजापुर, मुरैना।
  5. गुजरात के कच्छ, बनासकांठा, साबरकांठा, पंचमहल, दोहाड़।
  6. पाकिस्तान के पंजाब प्रांत का बहावलपुर जिला व सिंध प्रांत का खैरपुर, मीरपुर खास जिला।

राजस्थान के वे जिले जो अन्तर्राष्ट्रीय एवं अंतर्राज्यीय सीमा पर नहीं है

  • पाली, जोधपुर नागौर, दौसा. टोंक, बूंदी. अजमेर, राजसमंद।

नोट-पाली जिले की सीमा सर्वाधिक जिलों से मिलती है।

राजस्थान के वे जिले जो अन्य राज्यों की सीमाओं से मिलते है :

  • पंजाब की सीमा पर-गंगानगर, हनुमानगढ़
  • हरियाणा की सीमा पर-हनुमानगढ़, चुरू., झुंझुनू, सीकर, जयपुर, अलवर, भरतपुर .
  • उत्तरप्रदेश की सीमा पर भरतपुर
  • मध्यप्रदेश की सीमा पर-धौलपुर, करौली; सवाई माधोपुर, कोटा–बारां, झालावाड़, चित्तौडगढ़, भीलवाड़ा, प्रतापगढ़, बांसवाड़ा।
  • गुजरात की सीमा पर-बांसवाड़ा, डूंगरपुर, उदयपुर, सिरोही,जालोर व बाड़मेर

नोट : राजस्थान की सर्वाधिक लम्बी सीमा राज्यों में मध्य प्रदेश से मिलती है एवं न्यूनतम पंजाब से है।

राजस्थान के भौतिक विभाग या भू-आकृतिक प्रदेश-

  • राजस्थान विश्व के प्राचीनतम भूखंडों का अवशेष है।
  • प्राग् ऐतिहासिक काल में विश्व दो भूखंडों-(1)अंगारालैण्ड व (2) गोंडवाना लैण्ड में विभक्त था,
  • जिनके मध्य टेथिस सागर विस्तृत था।
  • राजस्थान में उत्तरी पश्चिमी मरू प्रदेश व पूर्वी मैदान टेथिस महासागर के अवशेष माने जाते हैं जो कालान्तर में नदियों द्वारा लाई गई तलछट के द्वारा निर्मित किए गए हैं।
  • राज्य के अरावली पर्वतीय,एवं दक्षिणी-पूर्वी पठारी भाग गोंडवाना लैण्ड के हिस्से हैं।

राजस्थान के भौतिक प्रदेश के उच्चावच

  • धरातलीय दृष्टि से राजस्थान में स्पष्ट रूप से चार प्रदेश है, ये हैं
  1. मरुस्थलीय प्रदेश
  2. अरावली पर्वतीय प्रदेश
  3. पूर्वी मैदानी प्रदेश
  4. दक्षिणी-पूर्वी पठारी प्रदेश

राजस्थान की जलवायु 


1. मरुस्थलीय प्रदेश ( राजस्थान के भौतिक प्रदेश )

  • जिसे.भारत का विशाल मरुस्थल’ अथवा ‘थार का मरुस्थल’ कहते हैं।
  • अरावली श्रेणी के उत्तर-पश्चिम और पश्चिम में विस्तृत है जो राज्य के कुल भूमि के 61.1 प्रतिशत भाग पर विस्तृत है।
  • संपूर्ण विस्तार लगभग 20876579 वर्ग किलोमीटर है।
  • बाड़मेर, जैसलमेर, बीकानेर, जोधपुर, पाली, जालौर, नागौर, सीकर, चूरू, झुन्झुनूं, हनुमानगढ़, गंगानगर
  • सामान्य ढाल पूर्व से पश्चिम तथा उत्तर से दक्षिण की ओर है।
  • उत्तरी और पूर्वी क्षेत्रों की औसत ऊंचाई समुद्र तल से 300 मीटर तथा दक्षिणी भाग की लगभग 150 मीटर है
  • उच्चावच की दृष्टि से मरुस्थलीय प्रदेश को मुख्यतः शुष्क एवं अर्द्ध शुष्क दो भागों में विभाजित किया गया है।
  • प्रदेश में शुष्क दशाओं का विस्तार होता गया। इस प्रक्रिया अर्थात मरुस्थलीकरण का प्रमुख कारण मानवीय क्रिया है।
  • सामान्य रूप से यह मरुस्थलीय प्रदेश रेतीला है किन्तु जैसलमेर, बाड़मेर तथा बीकानेर क्षेत्र में स्तूप विहीन चट्टानी स्वरूप प्रकट हुआ है। (बालुका स्तूप मुक्त प्रदेश)
  • जैसलमेर के उत्तर में अनेक प्लाया झीलें भी हैं।
  • ये झीलें केन्द्रोन्मुखी जल प्रवाह से संबंधित हैं।
  • जैसलमेर तथा बीकानेर के निकट चूना-पत्थर और बालू-पत्थर तथा उनके अपरदित स्वरूप विद्यमान हैं।
  • मरुस्थल के शुष्क प्रदेश के चट्टानी मरुस्थल, बालुका स्तूप मुक्त प्रदेश एवं पूर्णतः रेतीले मरुस्थल में विभाजित किया गया है।
  • अर्ध शुष्क मरुस्थल को (1) लूनी-जवाई बेसिन, (2) नागौरी उच्च भूमि, (3) शेखावाटी प्रदेश और (4) घग्घर का मैदान

(1) लूनी-जवाई बेसिन

  • अजमेर, नागौर, पाली, जोधपुर, बाड़मेर व जालौर में है।
  • इसी प्रदेश में लूनी नदी क्रम विकसित हुआ है।
  • लूनी नदी अजमेर के निकट अरावली पर्वत से निकल कर दक्षिण-पश्चिम में प्रवाहित होती हुई कच्छ के रण में गिर जाती है।

(2) नागौरी उच्च भूमि

  • यह नागौर जिले में विस्तृत है।
  • सर्वाधिक खारी जिले पाई जाती है।

(3) शेखावाटी प्रदेश (बांगर प्रदेश)

  • शेखावाटी के अंतर्गत झुंझुनू, सीकर और चुरू जिले तथा नागौर जिले का उत्तरी भाग सम्मिलित है।
  • यह प्रदेश मध्यम एवं निम्न ऊंचाई के बालुका स्तूपों से युक्त रेतीला मैदान है।
  • इस प्रदेश में अपेक्षाकृत अधिक वर्षा होने से बालूका-स्तूपों पर वनस्पति है।
  • अधिकांश: अर्द्ध वृत्ताकार बालूका-स्तूपों का विस्तार है।
  • अनेक लवणीय झीलें भी यहाँ है जैसे डीडवाना, डेगाना, सुजानगढ़, तालछापर, कुचामन सांभर झील जो न केवल राजस्थान अपितु भारत में अपने नमक उत्पादन के लिए प्रसिद्ध है।
  • सांभर झील जयपुर से लगभग 65 किमी. पश्चिम में है तथा संपूर्ण झील लगभग 25 किमी. लम्बी और 10 किमी. चौड़ाई में पूर्व-पश्चिम दिशा में फैली है।
  • शेखावाटी के निम्न भू-भागों में चूने के पत्थर के अध: स्तर में अनावृत होने के कारण यहाँ कुएँ आसानी से खोदे जाते है इन कुओं को स्थानीय भाषा में जोहर या जोहड़ कहते है।

(4) घग्घर का मैदान

  • श्रीगंगानगर-हनुमानगढ़ जिलों का क्षेत्र एक मैदानी क्षेत्र है जिसका निर्माण घग्घर नदी की बाढ़ से हुआ है।
  • वर्तमान में घग्गर नदी को मृत नदी कहा जाता।
  • घग्घर का तल जिसे स्थानीय भाषा में नाली कहा जाता है, का विस्तार हनुमानगढ़, गंगानगर होते हुए पाकिस्तान तक है।

2. अरावली पर्वतीय प्रदेश ( राजस्थान के भौतिक प्रदेश )

  • अरावली विश्व का प्राचीनतम पर्वत है जो राज्य में विकर्ण दक्षिण-पश्चिम से उत्तर-पूर्व दिशा में फैला है।
  • दक्षिण पश्चिम में खेडब्रह्मा (पालनपुर, गुजरात ) से उत्तर पूर्व में दिल्ली की पहाड़ियों तक लगभग 692 किमी. की लम्बाई में विस्तृत है।
  • यह श्रेणी राजस्थान में उत्तर-पूर्व में खेतड़ी से दक्षिण-पश्चिम में खेडब्रह्मा (गुजरात) तक लगभग 550 किमी. की लम्बाई में विस्तृत है।
  • अरावली प्रदेश का मुख्य एवं सघन विस्तार राज्य के निम्न जिलों में है सिरोही, उदयपुर, डूंगरपुर, राजसमंद, चित्तौड़गढ़, भीलवाड़ा, अजमेर, जयपुर, अलवर, इत्यादि।
  • उदयपुर के निकट उन्हें जरगा की पहाड़ियाँ, अलवर के निकट हर्षनाथ की पहाड़ियों व दिल्ली के निकट दिल्ली की पहाड़ियों के रूप में जानी जाती है।

दक्षिणी अरावली प्रदेश-

  • दक्षिणी अरावली प्रदेश- में डूंगरपुर, उदयपुर, राजसमंद, इत्यादि जिले सम्मिलित है।
  • आबू खण्ड इसमें सिरोही के माउण्ट आबू पर्वत के साथ ही साथ अन्य मरूस्थली पहाड़ियाँ भी सम्मिलित है।
  • गुरु शिखर राजस्थान की सर्वोच्च चोटी (1722 मी.) है।
  • उदयपुर के उत्तर-पश्चिम में कुम्भलगढ़ और गोगुंदा के बीच का पठार ‘भोराट का पठार’ के नाम से जाना जाता है।
  • पूर्वी सिरोही के सुदूर पश्चिम में स्थित कटक जो तीव्र ढ़ाल वाले कम ऊँचे तथा उबड़-खाबड़ है भाकर कहलाते है।
  • दक्षिणी राजस्थान में जरगा व रागा पहाड़ियों के बीच का पठारी प्रदेश देशहरो कहलाता है।

मध्य अरावली-

  • मध्य अरावली- मुख्यतः अजमेर जिले में विस्तृत है।
  • इसमे एक ओर पर्वत श्रेणियाँ हैं तो दूसरी ओर संकीर्ण घाटियाँ और समतल स्थल है।
  • उत्तर अजमेर में समतल क्षेत्र है तो व्यापार क्षेत्र अनेकानेक पहाड़ियों से युक्त असमतल प्रदेश है।
  • अजमेर के निकट की पर्वत श्रेणियाँ नाग पहाड़ कहलाती है जिसका सर्वोच्च 873 मीटर ऊंचा है जो तारांगढ़ के नाम से जाना जाता है।

उत्तरी अरावली-

  • उत्तरी अरावली- का विस्तार जयपुर, दौसा, अलवर, सीकर, झुँझुनू में है।
  • इसमें शेखावाटी की पहाड़ियाँ, तोरावाटी की पहाड़ियाँ तथा जयपुर और अलवर की पहाड़ियाँ सम्मिलित।
  • सांभर गेप के पश्चात अरावली उत्तर-पूर्व की ओर पलखेत और खेतड़ी श्रेणियों के रूप में है।
  • जबकि उत्तर-पश्चिम की शृंखला शेखावाटी और इससे पूर्व की तोरावाटी पहाड़ियाँ कहलाती हैं।
  • तोरावाटी और अलवर की शृंखलाएं समानान्तर पहाड़ी क्रम में हैं।
  • जयपुर मे प्रमुख पर्वत शृंखलाएँ जयगढ़ (648 मीटर), नाहरगढ़ (599 मीटर), मनोहरपुरा (747 मीटर)।
  • अलवर में पुन: अरावली श्रेणियों का सघन विस्तार है यहाँ के प्रमुख शिखर भानगढ़ (649मी.), सिरावास (651 मी.), अलवर किला (597मी.), बैराइच (792मी.) तथा बिलाली (775 मी.)।

अरावली की प्रमुख चोटियाँ:

  1. गुरु शिखर (1722 मीटर) माउन्ट आबू, सिरोही
  2. सेर (1597 मीटर) माउन्ट आबू, सिरोही
  3. देलवाड़ा (1442 मीटर), सिरोही
  4. जरगा (1431 मीटर) उदयपुर
  5. अचलगढ़ (1380 मीटर) माउन्ट आबू, सिरोही
  6. रघुनाथगढ़ (1055 मीटर) सीकर
  7. खो (920 मीटर) जयपुर
  8. तारागढ़ (873 मीटर) अजमेर 

3. पूर्वी मैदान ( राजस्थान के भौतिक प्रदेश )

  • राजस्थान का पूर्वी प्रदेश में भरतपुर, अलवर के भाग, धौलपुर,सवाई माधोपुर, जयपुर, टोंक, भीलवाड़ा के मैदानी भाग।
  • दक्षिण में स्थित मध्य माही का क्षेत्र भी इसमें सम्मिलित।
  • वास्तव में इसे यदि ‘नदी बेसिन प्रदेश’ कहा जाए तो अधिक उपयुक्त होगा
  • इस प्रदेश के तीन वृहद् उप-विभाग हैं- (अ) बनास बेसिन, . (ब) माही बेसिन, (स) चम्बल बेसिन। .

(अ) बनास बेसिन:

  • यह एक विस्तृत मैदान है जिसकी ऊँचाई समुद्र तल से 150 से 300 मीटर के मध्य है तथा ढाल पूर्व की ओर राजसमंद, चित्तौड़गढ़, भीलवाड़ा, अजमेर, टोंक व सवाई माधोपुर जिलों में है।
  • संपूर्ण क्षेत्र में जलोढ़ मृदा का जमाव है जो कृषि के लिए उपयुक्त है।

(ब) माही बेसिन:

  • माही बेसिन का विस्तार उदयपुर के दक्षिण-पूर्व से बांसवाड़ा, डूंगरपुर तथा चित्तौड़गढ़ जिले के दक्षिणी भाग।
  • यह क्षेत्र माही नदी का प्रवाह क्षेत्र है।
  • माही नदी के काठे (किनारे) स्थित प्रतापगढ़ का भू-भाग कांठल कहलाता है।
  • यह प्रदेश अत्यधिक समतल है तथा सर्वत्र छोटी-छोटी पहाड़ियाँ हैं।
  • पहाड़ियों के मध्य संकीर्ण एवं कहीं विस्तृत समतल क्षेत्र हैं।
  • बांसवाड़ा को प्रतापगढ़ के मध्यवर्ती क्षेत्र को छपन का मैदान कहते हैं।

(स) चम्बल बेसिन:

  • यह सवाई माधोपुर, करौली, धौलपुर एवं मध्य प्रदेश के बीच में स्थित विशेष प्रदेश है।

4. दक्षिणी-पूर्वी पठारी प्रदेश (हाड़ौती का पठार) (राजस्थान के भौतिक प्रदेश )

  • राजस्थान का दक्षिणी-पूर्वी भाग एक पठारी भाग है जो मालवा के पठार एवं विन्ध्याचल का ही विस्तार है। इसे हाड़ौती के पठार के नाम से पुकारा जाता है।
  • लावा मिश्रित शैल एवं विन्ध्यन शैलों का सम्मिश्रण है।
  • पठारी भाग का विस्तार झालावाड़, कोटा, बाराँ, बूंदी, इत्यादि . जिलों में है।
  • औसत ऊंचाई 500 मीटर है तथा यहाँ अनेक पर्वत श्रेणियाँ हैं। जिनमें मुकन्दरा की पहाड़ियाँ और बूंदी की पहाड़ियाँ प्रमुख हैं।
  • ये पहाड़ियाँ अर्द्ध-चन्द्राकार रूप में विस्तृत इसके अतिरिक्त शाहबाद क्षेत्र, झालावाड़ का पठार, डग-गंगाधार का उच्च क्षेत्र और नदी बेसिन यहाँ है।
  • चम्बल नदी के अतिरिक्त इसकी प्रमुख सहायक काली सिंध, परवन और पार्वती नदियों द्वारा निर्मित मैदान यहाँ की प्रमुख विशेषता है।
  • भैंसरोडगढ़ से लेकर बिजोलिया तक का पठारी भाग उपरमाल कहलाता है।

  • प्रत्येक प्रश्न 1 अंक का है
  •  सभी प्रश्न करने अनिवार्य है
  •  कोई समय सीमा नहीं है
  •  प्रश्नावली में कोई त्रुटि होने पर उसकी सूचना  हमें कमेंट बॉक्स मैं लिख कर बता सकते हैं
नेहड़ दलदल किसका विस्तार है?
निम्न में से कौन सा जिला बीकानेर संभाग में नहीं आता है?
निम्न में से कौन सा पर्वत आडवाला पर्वत कहलाता है?
राजस्थान की स्थिति गुजरात से किस दिशा में है?
राज्य का कौन सा क्षेत्र या भू-आकृति प्रदेश अस्पष्ट अधर प्रवाह का क्षेत्र कहलाता है?
राजस्थान का आकार किस वस्तु के समान है?
मेवल का संबंध किस जिले से हैं?
राजस्थान के सर्वाधिक निकट स्थित बंदरगाह कौन सा है?
राज्य का सबसे गर्म जिला कौन सा है?
लूनी नदी के उत्तर में राजस्थान की उत्तरी पूर्वी सीमा तक आंतरिक जल प्रवाह का क्षेत्र क्या कहलाता है?
राजस्थान भारत के किस दिशा में स्थित है?
राजस्थान के रेगिस्तानी क्षेत्र प्रागैतिहासिक काल के किस भाग का अवशेष है?
राज्य के किस जिले में वार्षिक तापांतर सर्वाधिक रहता है?
निम्न में से कौन ग्रेनाइट पर्वत के नाम से विख्यात है
राजस्थान का कौन सा जिला अंतरराष्ट्रीय एवं अंतर राज्य दोनों ही सीमाओं पर अवस्थित है
विश्व का सर्वाधिक जैव विविधता वाला मरुस्थल है?
राजस्थान की कौनसी स्थलाकृति लावा निर्मित है?
वर्ष 2005 में घोषित राजस्थान का सातवां नवीनतम संभाग मुख्यालय कौन सा है?
उदयपुर जिले में तस्ततरीनुमा आकार में फैली पहाड़िया कहलाती है?
राजस्थान की कौनसी स्थलाकृति के स्थान पर प्राचीन काल में टेथिस सागर था?
मुकुंदवाड़ा की पहाड़ियां स्थित है?
ऊंचाई के अनुसार घटते क्रम में निम्न में से अरावली की चोटीयों का सही क्रम कौन सा है?
कोटा संभाग का जिला कौन सा नहीं है?
छप्पन की पहाड़ियां से संबंधित क्षेत्र?
कौन सा जिला उदयपुर संभाग में सम्मिलित नहीं है?
Complete the form below to see results
राजस्थान के भौतिक प्रदेश
You got {{userScore}} out of {{maxScore}} correct
{{title}}
{{image}}
{{content}}

About

You may also like...

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
3 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Vikash Rajput
1 year ago

Computer ki quiz bnao

trackback
1 month ago

[…] राजस्थान के भौतिक प्रदेश […]